February 24, 2024
dhaniya me moila rog

धनिया की फसल मे मोयला रोग ने किसानो की उड़ाई नींद , कैंसर की तरह खेतो मे फैलता हे यह रोग

Rate this post

धनिया की फसल में इस वर्ष मोहिला रोग और लगिया रोग का प्रभाव देखने को मिल रहा है जिससे खेतों में ही धनिया फैसले खराब होने लगी है इस समस्या के कारण किसान भाइयों की नींद उड़ चुकी है | जिससे धनिया का उत्पादन प्रभावित हो सकता है |

इस पोस्ट में उपलब्ध डाटा

धनिया में मोयला रोग

दरअसल यह रोग बीज के साथ खेतो मे चला गया है जो कि बाद में पौधे के तने पर फफूंद बन चुका है और अब फूलों को अब डोडिया बनने से रोक रहा है । मोयिला रोग को तनाव विलय रोग का नाम भी दिया जाता है जिससे प्रदेश मे इस रोग से किसानो की नींद उड़ा दी है | कृषि विभाग अधिकारी का कहना है कि प्रदेश में पिछले 4 सालो से यह रोग सामने आ रहा है तथा इसके जीवाणु बीच के साथ लंबे समय तक जीवित रहते है |

अधिकतर किसानों ने पिछले वर्ष भी इसी बीज का उपयोग बिना उपचार कर बुवाई की थी और इस वर्ष भी जिन किसानो ने बिना उपचार बुवाई की है इससे इस वर्ष भी बड़ी मात्रा मे यह रोग सामने आ रहा है | यह रोग बीज के साथ ही आ गया है जो अब तने मे फफूंद फैलता हुआ फूलों तक पहुंच जाता है और फूलों को डोडिया बनने से रोकता है |

यह भी पड़े – धनिया की नयी फसल की आवक इस क्षेत्र में हुई शुरु , जानिए आज के ताजा धनिया के भाव

कृषि विशेषज्ञ की सलाह

कृषि पर्यवेक्षक के अनुसार धनिया उत्पादक किसान खेतों में नमी नहीं रखे इस वक्त सिंचाई से नमी होने से लोग या रोग तेजी से फैलता है उनका कहना है कि प्रदेश के किसानों को इसरो पर नियंत्रण के लिए बीच की किस्म बदलनी चाहिए लोगिया रोग एक तरह से कैंसर की तरह फैलता है |

इन दवाई का करें छिड़काव

लगिया रोग नियंत्रण के लिए लिए प्रोपोकनाजोल और हेक्जकेनजोल का छिड़काव करना चाहिए 1 हेक्टेयर में 500 से 600 लीटर पानी का गोल पर्याप्त होता है इस गोल का छिड़काव किसान बंधु कर सकते है।

रोजना ऐसे ही मंडी भाव की जानकारी के लिए आप हमारे व्हाट्सप्प ग्रुप से जुड़ सकते है | Join व्हाट्सअप ग्रुप

अन्य मित्रो को शेयर करे

Shubham Rathor

I am Shubham Rathor From Madhya Pradesh, This Website I am Providing Kisan News And Mandi Bhav Releted Helpfull Information

View all posts by Shubham Rathor →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *